मेरे बड़े --

Sunday, April 2, 2017

चित्रकार मायरा

नानी जब रोटी बनाती है तब मैं गुँथा आटा लेती हूँ, इस बार नानी ने मुझे आटे का हाथी बनाना सिखाया ,फिर मैंने उसे रंग दिया ।
आज पहली बार नानी ने वाटर कलर दिए ,ब्रश नहीं था तो ईयर बड का इस्तेमाल किया ,कैसा लगा आप बताइये।
एक बॉय बनाया है ।

Wednesday, March 22, 2017

परनानी का जन्मदिन

12 मार्च को मेरी परनानी और बिग नानी का जन्मदिन था,दोनों का जन्मदिन एक ही दिन आता है,बिग नानी यानि मेरी मम्मी की बड़ी मामी ...
इस बार हम सबने परनानी को सरप्राईज़ दिया,पार्टी नर्मदा नदी के किनारे की और दो दिन और एक रात वहीं रुके।
सबसे मजेदार बात ये रही की पूना से छोटे नाना नानी के भी आने की खबर उन्हें नहीं दी ,और मुझसे पहले पहुँच जाने पर वे लगातार मुझे और नानी को मिस करती रही और शाम को पापा मम्मी हमें लेकर अचानक पहुँच गए ,बिग नानू ने मुझे आगे कर दिया,अचानक मैं उनके सामने पहुँच गई तो वे इत्ती खुश हुई कि बता नहीं सकती , हम सब अलग अलग जगह से मगर घर के बने केक लेकर आए थे,2 केक रात को ही काट लिए और बाकि 4 दूसरे दिन शाम को
इस बीच हम सब खूब खेले और नर्मदा में नहाए ,मुझे खूब ठंडी लगी ,मैं तो फटाफट टॉवेल लेकर परनानी की गोदी में बैठ गई ,छोटी परनानी और उनका परिवार भी साथ था।
खूब मस्ती की ,खूब मजा आया अगले दिन होली थी तो सब खरगोन भी गए और साथ होली खेली ।।।
आप तो बस फोटो देखिए सब समझ आ जायेगा कित्ता मजा आता है अपने से बडों के साथ ...जब बड़े भी बच्चे बन जाते हैं -जरा मेरी नानी को तो देखो, मेरी पुन्नी और नानी ने फोटो खिंचवाई ...👌🎂

Tuesday, March 21, 2017

झूला झूला

घर के सामने ये अंकल झूला लेकर आये,मेरा दोस्त केयान पहले तो खूब डरा फिर झूले वाले भैया ने उसे बातों में लगाया और हम दोनों को खूब झुलाया,मुझे डर नहीं लगता,केयान पहली बार बैठा था इस झूले में

Monday, March 20, 2017

रंगी रंगी मन रंगी

इस बार जब रंगों से पहचान हो गई तो होली खेलने का मजा लूटा ,पापा ने तो चुपके से मुझे ही रंग दिया

Wednesday, March 15, 2017

मायरा की हाजिर जबाबी

माँ मायरा से - मायरा खाना खाओ
मायरा अनसुनी करके भागती है ,माँ नानी से - अरे यार!कितना पचाती है ये!
नानी - मायरा खाना खाओ
मायरा-नहीं खाना
नानी-पिटाई खाओगी?
मायरा नानी से - पिटाई से पेट भर जायेगा ?
माँ और नानी दोनों की बोलती बंद।
...
अगले दिन घर-घर खेलते हुए, एक खिलौना प्लेट माँ की और बढ़ाकर मायरा माँ से- मम्मा ये लो आपके लिए भिन्डी सब्जी,रोटी
माँ -नहीं मुझे नहीं खाना,भूख नहीं ..
मायरा -रुको, मैं आपके लिए पिटाई बनाकर लाती हूँ ....

अब सब हँस-हँस कर पेट पकड़ रहे हैं,और मायरा पिटाई पका रही है ....