मेरे बड़े --

Monday, October 30, 2017

फोटोशूट

बहुत शौक है,अपनी मेडम जी को,फ्लोर पर कभी भी आ सकती है ....

Wednesday, October 18, 2017

रंगोली बनाई

शुभ दीपावली
नानी अभी मेरे पास नहीं,मगर माँ ने ड्रा कर दी और मैंने रंग भरे ।
पूरी बनने पर पापा ने फ़ोटो भेजा ही नहीं नानी को,खाली वीडियो में दिखा दिया ,अब आपको देखने नहीं मिलेगा 😊

Monday, October 9, 2017

नानी की "बुद्ध"

जब ध्यानमग्न होंगे तो ऐसे होंगे"बुद्ध"...

हाँ ,ये तो हुई नानी की बात,पर पापा,मम्मी ने बगीचे में काम करवाया और ये मेरा छोटा सा पहाड़ बनवाया ,मालीभैया ने एक पेड़ भी लगा दिया है,और खास तो मेरा अमरूद का पेड़ अमरूद लटका के छाँव भी दे रहा है।
पापा ने कहा ध्यान में बैठो ,तो फ़ोटो खिंचवाने को मैं कैसे भी पोज़ दे सकती हूँ....

Friday, October 6, 2017

सुप्रभात

सुप्रभात!

प्यार करो पौधे से,
उसके गमले,
फूल से,
और फल से,

गले मिलो सबसे,
आदर करो सबका,
आँखों से हँसों अपनी
दिल जीतो सबका...

हर सुबह होगी सुहानी
उमंग से भरी,मनभावनी
बनेगा बगीचा तुम्हारा
चूँ-चूँ की छावनी.....

-नानी

Monday, August 28, 2017

गणेश जी

फर्स्ट फिंगर से बनाना शुरू किया नानी की मदद से ,आज स्कूल से आकर आंखें बनाकर पूरा कल दिखाउंगी-मायरा

Saturday, August 26, 2017

तीज-त्यौहार

माँ के साथ ही त्यौहार समा जाते हैं बेटियों के मन में...नानी कहती है
मेरी मम्मा ने मेंहदी लगाई और मैंने भी, रात भर रखा सूखने तक बिना हिलाए, पहले दिन का और दूसरे दिन चढ़ा रंग ---

Friday, August 4, 2017

मॉडलिंग

जब मन होता है नानी से फोटोग्राफी करवाती हूं...लंबे बालों का बहुत शौक है अभी तो नानी मेरी ऐसी चोटी बना देती है।
आपको एक बात बताती हूँ ,मुझे 4-5 दिन से तेज बुखार आ रहा है, दो दिन तो स्कूल छुट्टी भी करनी पड़ी, लेकिन आज ठीक हूँ, नानी रोज पूजा करती है,नानी ने बताया कि उन्होंने भगवान जी से कहा था कि मायरा के बुखार को भगा देना ,मुझे याद आया कि नानी के साथ मैंने भी पूजा की थी कल तो ...मैंने नानी से कहा - आपने भगवान जी को ऐसे नहीं बोला कि मेरी बेटी मायरा के बाल बड़े कर देना ....और नानी ने कहा आज बोल देंगी ... 👍

तब तक ये देखिए -

Wednesday, July 26, 2017

मेरा होमवर्क होता फटाफट

मुझे रोज थोड़ा सा होमवर्क मिलता है, टीचर स्कूल में जो सीखती है वही, घर आकर हाथ,मुँह, धोकर,कपड़े बदल कर मैं होमवर्क कर लेती हूँ फटाफट से...
मुझे इरेज़र से मिटाने में मजा आता है, पर ऐसा करने से होमवर्क करने में बहुत समय लगता है,मेरी नानी ने सिखाया कि होमवर्क बहुत ध्यान से करते हैं ,एक बार ध्यान से लिखने से गलत नहीं होता,मिटाना नहीं पड़ता और होमवर्क फटाफट खत्म हो जाता है,फिर नानी कहानी सुनाती है ...बहुत सारी मुझे सिंड्रेला की कहानी बहुत पसंद है,कल नानी ने सात पूंछ वाली चुहिया की कहानी सुनाई,उससे मैंने सीखा कि- भगवान जी ने सबको अच्छी अच्छी चीज दी है,हमको चिढ़ना और चिढ़ाना नहीं चाहिए....

Tuesday, July 25, 2017

मायरा vs देवसेना

मायरा (नानी को दुपट्टा देते हुए)- नानी मुझे साड़ी पहना दो।

नानी दुपट्टा लेकर लपेट देती है।

मायरा दुपट्टा निकाल कर फेंक देती है ,नानी पूछती है-क्यों ?क्या हुआ?अच्छी तो पहनाई....

मायरा(गुस्से से)- देवसेना ऐसे नहीं पहनती है! ...

नानी परेशान है,"बाहुबली" देखनी पड़ेगी ।

Saturday, July 8, 2017

पहला दिन नया स्कूल

मायरा की स्कूल से फोन आया - मायरा का पेट दर्द हो रहा है ,आकर ले जाइए।
मम्मा दौड़ी-दौड़ी पहुँची, देखा मायरा मस्त खेल रही है ,फिसलपट्टी पर फिसल रही है...मायरा से पूछा - पेट दुख रहा है?
बोली - नहीं
फिर मम्मा ने टीचर से पूछा-
जबाब मिला- उससे लिखवा रही थी तो रोने लगी - पेट दुख रहा है  बोल के ..और मन डाइवर्ट करने को खेलने दिया ,तब से हँसकर खेल रही है ...😊

स्कूल से वापस भी नहीं आई 👍

पहले दिन मायरा  नए स्कूल गई तो सब स्टॉप पर बाय करने आए

Tuesday, July 4, 2017

नानी विचार

छोटे बच्चों को सिखाने से ज्यादा समझाने पर ध्यान दिया जाना चाहिए,सीख तो वे अपने से ज्यादा लेते हैं ....

#मायरा को सोचते हुए #मायराकीनानी का विचार ..😊

मायरा की टक्कर में नानी

जब ऐसी नातिन हो तो नानी भी तो वैसी ही होनी चाहिए न !!
मेरी नानी मेरे साथ मेरे जैसी बनके खेलती है।
आपकी नानी है मेरे जैसी ? -मायरा

Saturday, July 1, 2017

सेटोनोपेस मायरा

नानी मायरा की माँ से फोन पर - और मायरा स्कूल जाती है ठीक से?
मायरा की माँ-हाँ खूब बढ़िया से जाती है और आते समय भी बस में बच्चों से गपियाती रहती है , 10-15 मिनट लगते हैं स्कूल से घर पहुंचने में ,उसको लगता है अभी बैठे,अभी उतरे इत्ती जल्दी खूब खुश रहती है।
नानी-और कुछ बताती है कि नहीं स्कूल में क्या किया, पूछते रहना ,आदत हो जाएगी बताने की फिर आकर
मायरा की माँ - हाँ 2-3 दिन पहले क्या हुआ सुनो-
(स्कूल से लौटकर माँ और मायरा की बातचीत)
माँ- आ गया मेरा बच्चा! आज क्या बताया मेडम ने
मायरा- "सेटोनोपेस" क्या होता है मम्मा?ये सिखाती है मुझे , मटक-मटक कर बताते हुए...
मम्मा चकरा गई! खूब तरह से पूछा ,पर यही शब्द बोलती रही मायरा ,बताया मेडम मुझे यही बोलती है,आखिरकार माँ ने कहा आप कल ठीक से सुनकर आना ।
अगले दिन स्कूल से लौटने पर-
मायरा- मम्मा "सिट ऑन योर प्लेस" क्या होता है मम्मा?
मम्मा- इसका मतलब होता है-अपनी सीट पर बैठो।
मायरा- इसका मतलब होता है ये! ,यही बोलती है मेडम मुझे दिन भर !!!बोलते ही रहती है !!!
और माँ नानी को फोन पर बताते -बताते भी लोटपोट हुई जा रही थी .... 
#हिन्दी_ब्लॉगिंग 

Sunday, April 2, 2017

चित्रकार मायरा

नानी जब रोटी बनाती है तब मैं गुँथा आटा लेती हूँ, इस बार नानी ने मुझे आटे का हाथी बनाना सिखाया ,फिर मैंने उसे रंग दिया ।
आज पहली बार नानी ने वाटर कलर दिए ,ब्रश नहीं था तो ईयर बड का इस्तेमाल किया ,कैसा लगा आप बताइये।
एक बॉय बनाया है ।

Wednesday, March 22, 2017

परनानी का जन्मदिन

12 मार्च को मेरी परनानी और बिग नानी का जन्मदिन था,दोनों का जन्मदिन एक ही दिन आता है,बिग नानी यानि मेरी मम्मी की बड़ी मामी ...
इस बार हम सबने परनानी को सरप्राईज़ दिया,पार्टी नर्मदा नदी के किनारे की और दो दिन और एक रात वहीं रुके।
सबसे मजेदार बात ये रही की पूना से छोटे नाना नानी के भी आने की खबर उन्हें नहीं दी ,और मुझसे पहले पहुँच जाने पर वे लगातार मुझे और नानी को मिस करती रही और शाम को पापा मम्मी हमें लेकर अचानक पहुँच गए ,बिग नानू ने मुझे आगे कर दिया,अचानक मैं उनके सामने पहुँच गई तो वे इत्ती खुश हुई कि बता नहीं सकती , हम सब अलग अलग जगह से मगर घर के बने केक लेकर आए थे,2 केक रात को ही काट लिए और बाकि 4 दूसरे दिन शाम को
इस बीच हम सब खूब खेले और नर्मदा में नहाए ,मुझे खूब ठंडी लगी ,मैं तो फटाफट टॉवेल लेकर परनानी की गोदी में बैठ गई ,छोटी परनानी और उनका परिवार भी साथ था।
खूब मस्ती की ,खूब मजा आया अगले दिन होली थी तो सब खरगोन भी गए और साथ होली खेली ।।।
आप तो बस फोटो देखिए सब समझ आ जायेगा कित्ता मजा आता है अपने से बडों के साथ ...जब बड़े भी बच्चे बन जाते हैं -जरा मेरी नानी को तो देखो, मेरी पुन्नी और नानी ने फोटो खिंचवाई ...👌🎂

Tuesday, March 21, 2017

झूला झूला

घर के सामने ये अंकल झूला लेकर आये,मेरा दोस्त केयान पहले तो खूब डरा फिर झूले वाले भैया ने उसे बातों में लगाया और हम दोनों को खूब झुलाया,मुझे डर नहीं लगता,केयान पहली बार बैठा था इस झूले में

Monday, March 20, 2017

रंगी रंगी मन रंगी

इस बार जब रंगों से पहचान हो गई तो होली खेलने का मजा लूटा ,पापा ने तो चुपके से मुझे ही रंग दिया

Wednesday, March 15, 2017

मायरा की हाजिर जबाबी

माँ मायरा से - मायरा खाना खाओ
मायरा अनसुनी करके भागती है ,माँ नानी से - अरे यार!कितना पचाती है ये!
नानी - मायरा खाना खाओ
मायरा-नहीं खाना
नानी-पिटाई खाओगी?
मायरा नानी से - पिटाई से पेट भर जायेगा ?
माँ और नानी दोनों की बोलती बंद।
...
अगले दिन घर-घर खेलते हुए, एक खिलौना प्लेट माँ की और बढ़ाकर मायरा माँ से- मम्मा ये लो आपके लिए भिन्डी सब्जी,रोटी
माँ -नहीं मुझे नहीं खाना,भूख नहीं ..
मायरा -रुको, मैं आपके लिए पिटाई बनाकर लाती हूँ ....

अब सब हँस-हँस कर पेट पकड़ रहे हैं,और मायरा पिटाई पका रही है ....