मेरे बड़े --

Tuesday, December 23, 2014

सबको मेरी पुच्ची

मुझे इतना प्यार देने के लिए सबको दोनों गालों पर एक-एक पुच्ची....
अगले साल के लिए आशीर्वाद दें कि सबके चेहरे पर मुस्कान रख सकूं .. उनसे नई बातें कर सकूँ ...:-D

और आगे सीख सकूं ... नया वर्ष सबको आत्मबल दे ....

Tuesday, December 9, 2014

नाज़ुक पैरों के नाज़ुक जूते

"पैर जमीं पर मत रखना."...
चाहता तो हर कोई है पर ...
.
.
.
.
सर पर रखे भी तो नहीं जाते ...
उठो बेटा!! चल पड़ो
सूरज से टक्कर लेनी है
और अब तो जूते भी हैं तुम्हारे पास ... :-)
सुप्रभात ....

Thursday, December 4, 2014

कम्बल की पोटली

पापा मेरे मस्त कलंदर
करके मुझको कम्बल के अंदर

जोर-जोर से मुझे हँसाते
ठंड को मुझसे दूर भगाते
 
लगा ठहाका हिला के अम्बर
हँसती खूब कम्बल के अंदर

ठंड को जब हम यूं डराते
हँसी के पल ये कैद हो जाते....
-मायरा

Wednesday, December 3, 2014

सात माह वाला बड्डे ....

११/११/२०१४

मायरा की मम्मी केक बनाएगी

केक बनाकर मायरा को खिलाएगी



मायरा के पापा मोबाईल लेके आएंगे 
फ़ुदकी मायरा के फोटो खींचे जाएंगे



मायरा पोज़ दे फोटो खिंचवाएगी
बिना एडिट नानी को भिजवाएगी 


नानी कुछ लिख सबको बताएगी

और सबके आशीष बटोर लाएगी


इस तरह फ़ुदकी -छुटकी मायरा 

सात माह वाला बड्डे मनाएगी



Tuesday, November 25, 2014

सर्दी की एक सुबह

उठो तो नानी पलक पावड़े बिछाकर तैयार मिलती है ....दर्शन दो उनको ...और फिर पड़े रहो रजाई में घुसकर ....

आहा!!!.... आनंदम.......आनंदम ......

खुद को भी और नानी को भी ......
और आपको?
-मायरा

(सर्दी की एक सुबह-2014)

Saturday, November 22, 2014

मेरे ब्लॉग की पचासवीं पोस्ट-मेरी सेल्फ़ी

कब इतना वक्त बीत गया पता नहीं चला, आपने इतना प्यार दिया कि बीमार होने पर सुई से भी नहीं डरी.... जल्दी वापस जो आना था , अब ठीक हूँ, बस मस्ती कम नहीं हुई ....
सीढ़ी चढ़ ली कल फिर से .....दर असल टारगेट बनाया है "नानी को दुबला करना"
चंद दिनों में ही फर्क नज़र आएगा ....
.
.और जिस-जिस को दुबला होना हो ,मुझसे संपर्क कर दोस्ती कर सकते हैं.......
.
.
धूप खाने का अपना ही मजा है कल ही ये सेल्फ़ी ली....नानी को पोज़ देना सीखा रही थी तब ....और अभी पता चला ये मेरे ब्लॉग की पचासवीं पोस्ट हो गई .....

थैंक्यू अनूप नानू ......
नानी को ब्लॉग बनाने का सजेशन देने के लिए ......
.
.लव टू ऑल माय फैन्स .......

राज की बात

आज मैं एक सीक्रेट बात बताने वाली हूँ ....चुप से पढ़िए और विश्वास न हो तो आजमा कर देखिए...

अगर मुझे सुबह ज्यादा देर तक सोना हो तो जब उठने का समय हो तब आँख खोल चुपके से नानी को देखती हूँ,फिर आँख बंद कर रोने का नाटक करती हूँ .....नहीं समझे?

अरे! बस भेंsssss भेंssssss करके आवाज निकालती हूँ ......
.
.
नानी देखती है ,और फट !से गोद ले लेती है ,मस्त  कम्बल  और गोद दोनों की गर्माहट मिलती है ,बस समझो हो गया अपना काम ......
चुप हो जाती हूँ,और गोदी में नींद कब वापस आ जाती है ,पता भी नहीं चलता
.
.
.
अब देखो न मैं मस्त सो रही हूँ 8 बजने वाले है....
.
ब्लॉग का काम भी नानी को ........
सन्डे की ठंडी सुबह का मजा .......नानी और मैं ......माँ भी .......

मैं - आपकी मायरा

थोड़ी कहूँ, पर ठीक हूँ....

पिछले दिनों

जब घुटनों पर चलने लगी तो घूमने का शौक लगा ,कभी माँ और कभी पापा के साथ लुकाछिपी करने में मजा आता ...फिर चलते चलते रास्ते में कुछ हाथ लग जाता और उन्हें मुँह में डालने की गंदी आदत लग गई ...और मैं बीमार पड़ गई....।. :-( अस्पताल जाना पड़ा ....और 5 दिन लग गए
जब नानी ने ये बात आपसे बताई तो आप सबने मेरे लिए भगवान् जी से प्रार्थना की ....मुझे ठीक करने के लिए और अब मैं ठीक हूँ

Monday, November 17, 2014

भाग जा बुखार ...

पता नहीं कैसे पर तबियत खराब हो गई ..... :-(
नानी स्कूल के वार्षिक उत्सव में व्यस्त थी ,और सोचा था बालदिवस पर जमकर मस्ती करेंगे हम दोनों ,पर सब गड़बड़ .....
डॉक्टर अंकल ने एडमिट करके ट्रीटमेंट किया ....आज थोड़ी ठीक हूँ .....पर ये हाथ की सुई के कारण खेल नहीं पा रही ठीक से ....फिर भी हँस तो सकती हूँ .....

आप सबने मेरे जल्दी ठीक होने के लिए भगवान जी से कहा तो सुनना तो पड़ी ही उनको .....

अब जल्दी से घर जाकर खेलना है ....ठीक से खाना खाऊँगी ,दूध पियूँगी और कभी अस्पताल नहीं आउंगी ,,,

Wednesday, November 12, 2014

मायरा स्वामी


खोई मुस्कान वापस दिलाने की गारंटी ली जाती है

" नो धोखा नो एनी धड़ी, सिर्फ हँसी की फुलझड़ी " ....
- पहुंचे हुए नौटंकी पंडित-- मायरा स्वामी

Tuesday, November 11, 2014

खुल जा सिम सिम

पिटारे से निकली जादुई गुडिया
नाम है जिसका छुईमुई "मायरा"

Friday, November 7, 2014

एक कदम आगे

आज नानी को पकड़ के खड़े होना सीख लिया ,सच्ची बात तो ये है कि नानी होती है पास तो डर बाबू छुप कर खड़े हो जाते हैं दूर ......
नानी उनकी पिटाई कर देती है ...... और मैं शेर बन जाती हूँ ......

Thursday, November 6, 2014

ये ssss ऐसे ssss




नानी आपने बनाया,मैंने पहना ....एकदम परफेक्ट!
थैंक्यू ....

Tuesday, October 28, 2014

ठुमक -ठुमक "मायरा" चलत

  ठुमक -ठुमक "मायरा" चलत

अब मोटी नानी को दौड़ा दौड़ा कर दुबला कर दूँगी ...
 -मायरा






 




 ठुमक -ठुमक "मायरा" चलत
नानी को नचाने -२

नानी आये पीछे-पीछे
मायरा भागे आगे...
नन्हे-नन्हे पैर हिले
छुन-छुन पायल बाजे....
ठुमक -ठुमक "मायरा" चलत
नानी को नचाने.....२

एक जगह टिकती नहीं
ये छोटी पिदुकली
लेटते ही पलटी मारे
देखते रहें सारे...
ठुमक -ठुमक "मायरा" चलत
नानी को नचाने.....२

नानी उसको गोद ले तो
चार बाल नोंच ले
कभी चश्मा खीच ले
और नाक भी दबोच ले
नानी से ही खिचड़ी खाए
और झूला झूले...
ठुमक -ठुमक मायरा चलत
नानी को नचाने.... २

     
http://yourlisten.com/Archana/thumak-thumak-mayara-chalat

Tuesday, October 21, 2014

पहली धन तेरस

मेरी और मेरे परिवार की और से दीपावली की शुभकामनाएँ

Saturday, October 18, 2014

नन्ही अभिनेत्री

- हेल्लो मैडम !!! मायरा जी ,आप किस सिलसिले में यहाँ आई हैं ...
-यू डोंट नो ? .....छ: महीने पहले यहाँ एक फिल्म साईन की है ....उसी सिलसिले में....आती रहती हूँ
-ओह .... कुछ बताएँगी कितना अमाउंट ?
-हाँ हाँ क्यों नहीं ,... उतना मिलता है ,जितना आज तक किसी को नहीं मिला होगा .......स्नेहाशीष अनकाउन्टेबल ......... बस वही बटोरने आती हूँ ...
-प्लीज .... एक फोटो .....
- जी लीजिए ... बेझिझक !!!

मैं परियों की शहजादी




अपुन पैदाइशी स्टाईलिश हैं बाबा !!!

एक से बढ़कर एक ट्रेनर हैं मेरे पास ..... और सबको टक्कर देना पड़ता है ....


Thursday, October 16, 2014

मेरा पहला स्वेटर

नानी को बुनाई का बहुत शौक है ,बहुत मतलब बहुत ही ज्यादा ...
कहती है शादी की पहली वर्षगाँठ पर नानू ने तीन किताबें गिफ्ट में दी थी -एक सिलाई ,दूसरी  कढ़ाई और तीसरी बुनाई की ....कभी दिखाऊँगी फोटो उनकी भी
घर में सबने पहने हैं उनके बुने स्वेटर
...
आज मेरा स्वेटर भी कम्प्लीट कर दिया ...ये मेरा पहला स्वेटर है ...देखिए ...कैसा लगा ?....
अच्छा लगा तो मेरे साथ बोलिए -
थैंक्यू नानी....लव यू !!!

Tuesday, October 14, 2014

खरगोश और पुच्चू

पुच्चू-सुना है - मायरा की नानी को दोस्त लोग  "सुपर नानी" के नाम से पुकारने लगे हैं
मायरा खरगोश -ह्म्म्! सुना तो है

पुच्चू-और वहां नानी को सुपर नानी बनाने वाली मायरा का ही कोई जिक्र नहीं ....

मायरा खरगोश - अरे !ये सब ब्लॉगर लोग हैं ,आपसी समझ तगड़ी हो गई है इनकी ......इनकी बात तो मैं भी समझती हूँ ,तुम जैसे बीच में भड़काने वाले आते हैं और चले जाते हैं ....:-D
मैं तो कहती हूँ तुम भी परदे के पीछे से काम करना सीखो .....
पुच्चू -जैसे ?
मायरा खरगोश -.....जैसे अब किसी से जाकर  ये न कहना  कि " मायरा"मंगल पर जाने की तैयारी कर रही है .....
नानी और मैं मिलकर प्लान बनाते है ...बुद्धू
.
.
.
सारे लोग मुझे ही प्यार करते हैं ,इसलिए नानी का असली नाम तक भूल गए ....हुर्रे !!!!!
पुच्चू - ओह! तो ये बात है .....हमारी नानी -"सुपर नानी"........हुर्रे!!!!

Sunday, October 12, 2014

हाथी की शामत

आज हाथी को छोडूंगी नहीं ..... .दर्जी के कपड़े गंदे किए थे न ! .....दर्जी ने सुई चुभाई तो कुछ गलत नहीं किया बल्कि ठीक किया .....
.
.
.
राह चलते किसी से कुछ माँगना नहीं चाहिए ....और रोज रोज तो बिलकुल भी नहीं ........
कोई दे तब ले सकते हैं ,अगर अपनी पसंद की चीज हो .... :-(
नानी भी ले लेती थी जब छोटी थी और बालमंदिर से आते हुए अंकल देते थे -जो नानी के पापा के फ्रेंड थे -किशमिश और गटागट की गोली .....
.
.
.
:-D